Janmashtami Tambola Story : Perfect Tambola For Saawan

27
2295
janmashtami tambola story

Janmashtami Tambola Story. Saawan, the love season is here and I am getting many mails daily to share some games on saawan or krishna Janmashtami. After sharing the horror tambola story, karwa chauth tambola story and time pass tambola story, today I am here with a Janmashtami Tambola Story for your kitty party in the month of August.

This is a simple story on Lord Krishna and is created just for the sake of fun. It has nothing to do with the mythology or Lord Krishna. The story has the tambola numbers form 1-90 and the players have to cut the numbers as they are called in the story.

Janmashtami Tambola Story

janmashtami tambola story

The image above has the half story, but you can download the complete Janmashtami tambola story from the download button below. Just download the story and get it printed in any of your nearby cyber cafe. This tambola game will be played with the simple tambola tickets and variation is just in the calling of tambola numbers.

Instead of taking the tambola numbers from the box, the host will narrate the janmashtami tambola story which has all the numbers in it. As the host narrates the story, the players will keep cutting the numbers. You can keep the tambola dividends simple and the most commonly used and popular tambola dividends are early five, three lines and full houses. You can also keep some tricky and different tambola dividends and if you want to know about such unique tambola dividends click HERE.

Just click on the download game sheet button below and the document file will be downloaded in your computer system. You can then get it printed. In any case if you are unable to download the janmashtami tambola story, do leave a comment in the comment box below and I will mail you the tambola story separately.

DOWNLOAD THE COMPLETE STORY HERE

27 COMMENTS

  1. yes there is no story in your word file plz email me thnx , and tell me tht if we hv 12 members how i change number in each ticket coz cant be keep same numbers in every ticket . thnx

    • Hey Anupama, there was an error which is corrected now. You can now download the story from the post or if you say I can even mail it to you separately. By the way which ticket are you talking about and where do you want to change the numbers. Please be clear so that I can help you out.

    • Here is the complete story Poonam. I have also mailed you story.
      Shri Krishna Janmashtami Tambola Story
      भगवान श्रि क्रिशन का जनम हर साल जनमश्टमी के रूप मे मनाया जाता है. इस साल जनमशटमी 17 अगस्त को मनायी जायेगी. मै अपने शेहेर की जनमशटमी के बारे मे आपको बता राही हू. मै अपनी 1 सहेली के साथ मनदिर गयी थी. हम दोनो रात दस (10) बजे मन्दिर गये भगवान श्रि क्रिशन के दरशन किये.
      मंदिर को बहुत सजाया गया था. किसी ने हमे बताया के मंदिर में 63-64 तरह कि लाइट, 65-66 तरह के फूल मालायें और 68 तरह की रंगोली बनाई गयी थी. बहुत भीड़ थी मंदिर में, कुछ 82-85 लोग चबूतरे पे, 83-84 लोग कुरसियों पे और 88-89 लोग बगीचे में बैठे थे.
      वहा हमे 4 सहेलिया मिलि.हम रात को 12 बजे घर गये और 2 बजे खाना खाया.पन्डित जी ने श्रि क्रिशन के बारे मे बताया. श्रि क्रिशन की 2 मा और 16 हजार पत्निया थी. उनके पास 76 हजार सेना और 75 सखिया थी. उनके पास 18 गाव थे.
      भगवान श्रि क्रिशन की मा को उनके मामा ने 9 महिने जेल मे रखा था. उनको दुसरि माता यशोदा ने पाला था. जब वो 8 साल के हुये तब उनकी मा को पता लग गया कि वो साधारण इन्सान नही हैं.11 साल की आयु मे मामा का वध किया और 13 साल कि आयु मे राज सम्भाला.
      भगवान श्रि क्रिशन के पास 74 घोड़े 60 हाथी, 50 मोर थे. उनके पास 62 छोटि और 72 बड़ी गोशाला थी. 59 से 69 सालों तक उन्होने गोकुल पर राज किया. वहां उनके पास 78 गाय, 73 भैंसें, 35 बकरियां, 36 से 38 भेड़, और 55 बछड़े थे.
      भगवान श्रि क्रिशन की गांव में 44 एकड़ ज़मीन थी और 40 खेत थे जिनमे 39 तरह की सब्जियां और 29 तरह के फल उगाये जाते थे. भगवान श्रि क्रिशन के पास बहुत बड़ा खजाना था जिसमे 17 लाख हीरे, 15 लाख मोती, 33 पन्ने, 28 रत्न जड़ित मालायें, 37 बाजुबंद, 47 कमरबंद, 57 नीलम की और 86 सोने की अंगूठियां थीं. उनके पास 67 पायल, 77 कड़े, 14 मुकुट, 23 कान की बालियां थी. पंडित जी ने हमे ये भी बताया कि भगवान श्रि क्रिशन के पास 79 करोड़ सोने और 34 लाख चानदी की अशृफियां भी थीं.
      क्रिशन जी के 70 महल थे और प्रत्येक महल मे 3 बगीचे, 5 रसोई घर, 6 स्नान घर, 19 दरवाज़े थे. उनके हर महल में 20 छोटी खिड़किया, 30 बड़ी खिड़कियाँ, और 21 गुप्त दरवाजे थे. भगवान श्रि क्रिशन के महल मे 22 रसोइये थे जो रोज़ 32 तरह के पकवान, उन्हे मक्खन बहुत पसन्द था इसलिये रोज़ 42 किलो दूध आता था जिसमे से 26 किलो मक्खन बनाया जाता था.
      भगवान श्रि क्रिशन के पास 27 धोतियाँ, 25 कमर पहनवा, 24 मुकुट थे. उनकि 31 शस्त्रशाला मे 41 भाले, 51 तीर कमान, 61 तलवारें, और 71 अलग अलग तरह के शस्त्र थे.
      भगवान के बगीचे मे 43 मोर थे जिनके पंख 7 रंगो के थे. गोकुल गांव के आस पास 45 जंगल थे जिनमे 46 हाथी, 48 शेर, 49 भालू, 52 चीते, 53 घोड़े और 54 अलग अलग तरह के बंदर थे. राजा बनने के बाद उनके पास 56 लाख कि सेना और 58 गुप्तचर चारों ओर नज़र रखते थे. आज भी भारत के 80-87 करोड़ लोग 81 से 90 हजार मंदिरों में रोज़ भगवान श्रि क्रिशन की पूजा करते हैं.
      भगवान श्रि क्रिशन की जय.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.