करवा चौथ व्रत उध्यापन विधि (Karva Chauth Vrat Udyapan vidhi)

0
24
Karva-Chauth-Vrat-udhyapan-vidhi
Advertisement

जब किसी महिला को karva chauth vrat को करते हुये काफी समय हो जाता है, तो वह अपनी इच्छा अनुसार अपने करवा चौथ व्रत का
उद्यापन कर सकती है।  करवा चौथ व्रत उध्यापन विधि (Karva Chauth Vrat Udyapan vidhi) जानने के लिये ये लेख ध्यान से पडे।

करवा चौथ का व्रत कार्तिक महीने की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को सुहागन स्त्रियो द्वारा किया जाता है। यह व्रत हर विवाहित महिला अपने रिवाजो के अनुसार रखती है और अपने जीवन साथी की अच्छी सेहत तथा अच्छी उम्र की प्रार्थना भगवान से करती है। इस दिन महिलाये सारा दिन व्रत रखती है, यहा तक की वे जल और फल भी ग्रहण नहीं करती। दिन भर की कठोर तपस्या के बाद जब रात्री मे चंद्रमा के दर्शन होते है, तब चंद्रमा की पूजा के बाद यह व्रत पूर्ण होता है।Karva Chauth Vrat Udyapan vidhi

जब कोई स्त्री एक बार करवा चौथ व्रत करना प्रारंभ कर देती है, तो उसे यह व्रत जीवन पर्यंत करना पड़ता है। इसलिए यह जरूरी नहीं है ,कि हर उम्र मे निर्जला रहकर ही यह व्रत किया जाए। एक बार जब सुहागन महिला इस व्रत का उजन कर देती है, तो वह अपनी सुविधा अनुसार व्रत के समय फल, जल और अन्य चीजे ग्रहण कर सकती है।

करवा चौथ व्रत उध्यापन विधि (Karva Chauth Vrat Udyapan vidhi)

  • Karva Chauth Vrat Udyapan vidhi के लिए महिलाये अपने घर मे पूड़ी तथा हलवा बनाती है।
  • अब इन पुड़ियो को एक थाली मे चार-चार के ढेर मे तेरह जगह रखते है।
  • अब इन पुड़ियो के उप्पर थोड़ा थोड़ा हलवा रखते है। अब इसके उप्पर साडी ब्लाउस अपनी इच्छा अनुसार रूपय रखकर तथा उसके आसपास कुमकुम चावल लगाते है।
  • अब इसे अपनी सासु माँ के चरण स्पर्श कराकर उन्हे देते है ।
  • अब इन सब के बाद तेरह ब्राह्मणो को भोजन कराते है और उनका पूजन करके तथा दक्षिणा देकर बिदा करते है।
  • कुछ स्त्रीया इस दिन उद्यापन के लिए अन्य सुहागन स्त्रियो को भोजन भी कराति है।
  • इसके लिए जो भी स्त्रिया करवा चौथ का व्रत करती है, उन्हे udyapan की सुपारी उद्यापन करने वाली महिला द्वारा पहले ही दे दी जाती है। करवा चौथ व्रत वाले दिन सारी महिलाये अपनी अपनी पूजा कर udyapan वाली महिला के घर जाकर अपना भोजन करती है
  • भोजन के बाद इन सभी महिलाओ को बिंदी लगाकरऔर सुहाग की सामग्री देकर बिदा किया जाता है।
  • इस प्रकार करवा चौथ व्रत की उद्यापन विधि संपन्न होती है।

तो अगर आपसे अब करवा चौथ का व्रत किसी भी कारण से नही हो पा रहा हो तो आप इस Karva Chauth Vrat Udyapan vidhi (करवा चौथ व्रत उध्यापन विधि) से अपने व्रत छोड सकती हैं।

करवा चौथ व्रत की पूजा विधि (Karva Chauth Vrat ki Pooja vidhi) :

  • Karva Chauth Vrat ki pooja को करते वक़्त एक पटे पर जल से भरा लोटा एवं एक करवे मे गेहु भरकर रखते है।
  • इस दिन पूजन के लिए दीवार पर या कागज पर चंद्रमा तथा उसके नीचे भगवान शिव और कार्तिकेय की प्रतिमा बनाई जाती है और इसी प्रतिमा की पूजा स्त्रियो द्वारा की जाती है।
  • इस दिन महिलाये सारा दिन व्रत रखती है, यहा तक की वे जल और फल भी ग्रहण नहीं करती।
  • दिन भर की कठोर तपस्या के बाद जब रात्री मे चंद्रमा के दर्शन होते है, तब चंद्रमा की पूजा के बाद यह व्रत पूर्ण होता है। Karva Chauth Vrat मे रात्री की पूजा मे चंद्रमा को अर्द्ध देना, महत्वपूर्ण है| हर वो स्त्री जो व्रत करती है वो चंद्रमा को अर्द्ध जरूर देती है और फिर व्रत पूर्ण होता है। अब अपने करवा चौथ व्रत को पूर्ण कर स्त्रिया रात्री मे जल तथा भोजन गृहण करती है।
  • जब कोई स्त्री एक बार करवा चौथ व्रत करना प्रारंभ कर देती है, तो उसे यह व्रत जीवन पर्यंत करना पड़ता है। इसलिए यह जरूरी नहीं है कि हर उम्र मे निर्जला रहकर ही यह vrat किया जाए।
  • एक बार जब सुहागन महिला इस व्रत का उजन कर देती है, तो वह अपनी सुविधा अनुसार vrat के समय फल, जल और अन्य चीजे ग्रहण कर सकती है।

शेयर करे और अपनी सहेलियो को भी बतयें इस आसान (Karva Chauth Vrat Udyapan vidhi) के बारे में।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.